मैं कौन हूं?

विकट सवाल का सरल जवाब ये है कि पत्रकारिता को धर्म की तरह अपनाने की नीयत लेकर दिल्ली में दाखिल हुआ था पांच साल पहले। टेलीविज़न वालों ने ऐसी पत्रकारिता करवाई कि सारा धर्म जाने कहां चला गया। बड़ी शिद्दत से कोशिश करके इन दिनों एक सम्मानित स्थान पर कुछ करने की फिराक में हूं। नाम है तहलका। बाकी घर परिवार का पता छोटे से ब्रेक के बाद…

Advertisements

6 responses to “मैं कौन हूं?

  1. एनडीटीवी के रवीश कुमार का कस्बा देख रहा था…लेकिन चौराहे पर आपको देख ठिठक गया.. आपके परिचय को पढ़कर लगा कि टीवी पत्रकारिता के जले हुए लोगों में से आप भी एक हैं… वैसे मैं साफ बता दूं कि आपके परिचय के साथ-साथ आपके जातिसूचक टाइटिल ने भी मुझे आपको लिखने को प्रेरित किया… ताकि कम से कम परिचय की गांठ तो लग ही जाए… अगर अच्छा किया तो मेल जरुर कीजिएगा…. मैं फिलहाल कुत्तई भरी टीवी पत्रकारिता (लाइव इंडिया) में ही भौंकने वालों के लिए लिखता हूं…
    धन्यवाद सहित……
    आपका विनोद कु.मोदी(चौरसिया)

  2. tv ko itni gali kyon? gandh print or internet pe kam hai kaya? tv journalist aasman se nahi utre hain!!! jitni gandgi net or print me hai, utna hi tv jouranlism me bhai.

  3. dharmendra kanwari

    salam bhaijan accha likhte ho…..

    lage raho

    best of luck

  4. hi Atul, how r u? bilkul sahi baat, Tv jouranlism me mai bhi job karta hu but apne kaam se santusti nahi milti, yaha pe khaber khch khas nahi rahega, use aise mirch-masala laga kar pes karenge ki pata nahi wo kiya teer maarne wala hai (wahi kahawat khoda pahad nikli chuhia) wali baat, kisi ne BREAKING ki lage uske piche, copy. kiya batou, bolna to bahut chahta hoon. kuchek channel hai jo dekhne me acha lagta hai uski scripting, camera, editing aur sabse bari baat unka nazaria. naam hi bata deta hoon na NDTV.
    aapka blog acha laga, humne kuch padha hai, kuch baaki hai, aise hi likhte rahiye. request hai Raj Thakrwa (wahi jo mumbai ko apna Bapouti samjhta hai) uske baare me likhte.

  5. Atul Chaurasia

    Atul ji Aap ka parichaye jaan kar accha laga lakin aisa nahi hai ki gandagi kewal Electronic media me hi hai, gandagi to har jagah hai but ha ye kah sakte hai ki yaha kuch jyada hi hai, waise to mai bhi inhi gande logo ke beech kaam karta hu,lakin kuch acche logo se bhi mulakat hoti rahati hai,agar ho sake to apne cell no. mujhe de de taki kuch telephonic warta ho sake.Aap ka bhai Atul Chaurasia(Nama rashi).

  6. मित्रवर ! यह जान कर अपार प्रसन्नता हुई कि आप हिंदी भाषा के उद्धार के लिए तत्पर हैं | आप को मेरी ढेरों शुभकामनाएं | मैं ख़ुद भी थोड़ी बहुत कविताएँ लिख लेता हूँ | आप मेरी कविताएँ यहाँ पर पढ़ सकते हैं- http://souravroy.com/poems/

    आपके बारे में और भी जाने की इच्छा हुई | कभी फुर्सत में संपर्क कीजियेगा…

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s