कबूतर महंगा पड़ जाएगा…

सबेरे-सबेरे ही मुहल्ले में फिर से कोहराम मचा हुआ था। आज फिर समय से पहले ही कच्ची नींद से उठना पड़ा था। बगल के कमरे में सोई हुई गांव की दादी ने पूछ ही लिया देखो तो बाहर क्या गड़बड़ हो गई। बहुत देर से हो-हल्ला मचा हुआ है। दादी को छोड़ घर में सबको बाहर चल रही नौटंकी की पटकथा का अंदाज़ा था। बाहर से आ रही आवाज़ें भी जानी पहचानी थी। चमेली चाची पानी पी-पी कर पड़ोसी चतुरी चाचा को कोस रही थी। और चतुरी चाचा भी चाची के हर वार का जबर्दस्त प्रतिकार कर रहे थे। फिल्म के क्लाइमेक्स की तरह जब मामला अंत की ओर बढ़ने लगा, हिंदी फिल्मों की तर्ज पर दोनों पक्ष की आवाज़ें निर्धारित सीमा को पार करने लगी, बैकग्राउंड संगीत अपने चरम को पहुंचने लगा तब एक समझदार जिम्मेदार पड़ोसी के नाते बाहर जाना जरूरी लगने लगा।

 

माजरा काफी कुछ जाना समझा था। बस इस बार तरीका कुछ बदल गया था इसलिए लड़ाई का ये नया एपीसोड शुरू हुआ था। चमेली चाची और चतुरी चाचा की लड़ाई की पृष्ठभूमि बहुत पुरानी है और काफी हद तक ये मुंहजुबानी पैंतरेबाजी तक ही सीमित रहती है। चाची की पोती और चाचा का सबसे छोटे बेटे का प्यार मुहब्बत का रिश्ता है। पर पुराने विचारों की चाची को ये प्यार-व्यार का तरीका बिल्कुल पसंद नहीं। पहले वो चतुरी चाचा के दूध वाले को गरियाती फिरती थी। पूछने पर कहती कि मरजाद चतुरी चाचा का दूध उनके दरवाजे अड़ा जाता है हर रोज। मुहल्ले वालों से पूछा तो बात कुछ और ही निकली। दरअसल मरजाद दूधवाला प्रेमी जोड़े के बीच संदेशवाहक का काम करता था। चाची ने दूध वाले को रंगेहाथ पकड़ लिया था। पर लोकलाज के डर से उसे दूध अड़ाने के बहाने गरियाती रहती थी। बाद के दिनों में चाचा के छोटे लड़के ने अख़बार वाले को संदेशवाहक बना लिया था। पटा पटी के इस दौर में कुछ दिन शांति रही फिर ये भेद भी सामने आ गया और एक बार फिर से चमेली चाची और चतुरी चाचा आमने-सामने आ हो गए थे।

 

बहरहाल ताज़ा वाकए का मजमून भी काफी कुछ सबको पता था। पर फिर भी एक बार बात को करीने से समझने की गरज से पड़ोसियों से मगजमारी करने लगा। इस बार चाची मोबाइल फोन की थुक्का फजीहत कर रही थी। नाश हो इस मोबाइल का… इसीलिए दिलाया था… मुहल्ले में औरतों लड़कियों की इज्जत तो जैसे नीलाम हो गई है… आदि आदि…।

 

 

चाची हाथ में पांच छह सिमकार्ड लिए सबको दिखा-दिखा कर चतुरी चाचा पर लांछन लगा रही थी। और चाचा उनके हर वार को अपने तर्कास्त्र से ध्वस्त करने की पुरजोर कोशिश कर रहे थे।

चाचा और सिम के इस रिश्ते का मजमून समझने में कुछ वक्त लग गया। चमेली चाची को घर की छत से, घर में इधर-उधर से ये सिम कार्ड पिछले हफ्ते-पंद्रह दिनों में मिले थे। बकौल चाची ये सिमकार्ड चाचा के कुलदीपक ने उनकी पोती को सप्रेम उपहार दिए है। और इस बात को लेकर ये सारा हंगामा बरपा है सुबह-सुबह।

 

 

एयरटेल की पचास रूपए के सिमकार्ड में 150 रूपए के टाक टाइम वाली स्कीम ने प्रेमी जोड़े को आपस में जुड़ने का बढ़िया और ज्यादा कारगर तरीका सुझा दिया था। पचास के सिम कार्ड पर डेढ़ सौ की बात और फिर नया सिमकार्ड। चमेली चाची उस दिन को कोसते हुए घर के अंदर चली गई जब उन्होंने पोती के हाथ में मोबाइल देखा था। जाते जाते फुसफुसाती रहीअब मैं जानू शहर भर के छोरे-छोरियां मोबाइल कान में क्यूं सटाए घूमते हैं। उस दिन तो बड़े मजे से गांव में रिश्तेदारों से बात की थी। आज इस अधम मोबाइल के हाथों सब लुटता दिख रहा है चाची को।

 

प्यार की नई गुटरगूं को विज्ञापन दर विज्ञापन मोबाइल वाले बढ़ावा देने पर उतारू हैं। एयरटेल ने प्यार की शुरुआत से बरास्ता शादी होते हुए पहले बच्चे तक का सफर तय कर लिया है बॉलीवुड के सुंदर सितारों माधवन और विद्या बालन के जरिए। विरोधी रिलायंस ने भी प्रेमी को ‘लायर’ कहती प्रेमिका का विज्ञापन बड़े करीने से पेश किया है। अब चमेली चाची को कौन बताए दिन भर में डेढ़ सौ चैनलों पर डेढ़ हज़ार बार दिखने वाले ये विज्ञापन छोरे-छोरियों को दिमाग में इस क़दर घुस गए है कि चाची की नेक नियामतें इन्हें समझ ही नहीं आती।

 

कबूतर महंगा पड़ जाएगा वाला बयान इनके दिलोदिमाग पर हावी है इसलिए कबूतर से पीछा छुड़ाकर गांवशहर का नया खून सिम-सिम मुहब्बत का पहाड़ा पढ़ रहा है। कागज काले करने की दिन भी बीत गए अब…

   

अतुल चौरसिया   

Advertisements

1 टिप्पणी

Filed under बेसुरी डफली-राग पयास

One response to “कबूतर महंगा पड़ जाएगा…

  1. बहुत बढिया व्यंग्य। मजा आ गया।
    दीपक भारतदीप

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s